क्रिया की परिभाषा | क्रिया के कितने भेद होते है | हिंदी में जाने

क्रिया की परिभाषा | क्रिया के कितने भेद होते है | हिंदी में जाने

नमस्कार दोस्तों इस लेख में आप क्रिया के कितने भेद होते हैं और क्रिया की परिभाषा के बारे में जानेंगे दोस्तों हिंदी व्याकरण का महत्वपूर्ण क्रिया जिसके बिना कोई भी वाक्य पूरा नहीं होता है इसलिए आपको क्रिया की किसे कहते है या क्रिया क्या है आदि के बारे में जानकारी होनी चाहिए। 

हालाँकि क्रिया के बारे में छोटी कक्षाओं से ही पढ़ाया जाता है लेकिन जैसे जैसे छात्र बड़ी कक्षाओं में प्रवेश करते है वे क्रियाओ के बारे में भूल जाते है और जब प्रतियोगी परीक्षाओ में क्रिया से संबधित सवाल पूछे जाते है तो छात्र उसका उत्तर नहीं दे पाता है लेकिन इस लेख को पढ़ने के पश्चात आप छोटी या बड़ी किसी भी कक्षा में पढ़ाई कर रहे हो आपको क्रिया के कितने भेद होते है और क्रिया की परिभाषा के बारे में पूरी तरह से जान जाएँगे। 

क्रिया किसे कहते है?

 
kriya ke kitne bhed hote hai


वाक्य में प्रयुक्त वह शब्द जो उस वाक्य में किसी कार्य को करने या होने का बोध होता है उसे क्रिया कहते है इसे उदाहरण से अच्छी तरह समझते है 
जैसे:-

रमेश क्रिकेट खेल रहा है 

इस वाक्य में रमेश कर्ता है और खेल क्रिया है अर्थात खेल शब्द वाक्य में किसी कार्य करने का बोध करवाता है। 

अन्य उदाहरण 

श्याम केला खा रहा है 
वाक्य में श्याम कर्ता,केला कर्म और खा रहा है क्रिया है। 

शिवम किताब पढ़ रहा है 
वाक्य में शिवम कर्ता,किताब कर्म और पढ़ रहा क्रिया है। 

क्रिया के कितने भेद होते है ?


क्रिया को कर्म के आधार पर,रचना के आधार पर और प्रयोग के आधार पर अलग अलग भागों में विभाजित किया गया लेकिन इस लेख में आप कर्म के आधार पर क्रिया के कितने भेद होते है इस बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। 

कर्म के आधार पर क्रिया के कितने भेद होते है ?

कर्म के आधार पर क्रिया के दो भेद होते है  

  1. अकर्मक क्रिया 
  2. सकर्मक क्रिया 

अकर्मक क्रिया :- वह क्रिया जिसमें क्रिया के व्यापार का फल कर्म पर न पढ़कर सीधा करता पर पड़ता है उसे अकर्मक क्रिया कहते है। 

जैसे:- 

मनीष खेलता है 

वाक्य में मनीष कर्ता है और खेलता क्रिया अर्थात वाक्य में खेलता क्रिया के साथ कोई कर्म नहीं जुड़ा हुआ इस कारण वाक्य में अकर्मक क्रिया है। 

अकर्मक क्रिया के अन्य उदाहरण 

  • रमेश रोता है 
  • तोता उड़ रहा है 
  • कविता बोलती है 
  • सुरेश हँसता है 
  • सुंदर खाता है 
  • दिनेश दौड़ता है 
  • राकेश पढ़ता है 

सकर्मक क्रिया :- जैसे की नाम से ही पता चलता है कर्म के साथ यानि वाक्य में क्रिया के व्यापार का फल कर्म पर पड़ता हो उसे सकर्मक क्रिया कहते है। 

सकर्मक क्रिया के उदाहरण 


राम खाना खा रहा है 

वाक्य में राम कर्ता है और खा रहा है क्रिया और खाना कर्म है अर्थात खाना कर्ता की क्रिया का आधार और कर्म है। 

  1. विराट क्रिकेट खेल रहा है 
  2. दर्शन गाना गा रहा है 
  3. सुनीता टीवी देख रही है 
  4. अशोक पढ़ाई कर रहा है 
  5. सुरेश स्नान कर रहा है 
  6. शिवानी गीता पढ़ रही है 
  7. महेश संगीत सुन रहा है 
  8. हर्षित आराम कर रहा है 

सकर्मक क्रिया को भी दो भागो में बाँटा गया है 

एककर्मक क्रिया:- वे क्रिया जिसमें एक ही कर्म होता है उसे एक कर्मक क्रिया कहते है 
जैसे 

  • हरीश झाड़ू लगा रहा है 
  • रोहित बल्लेबाजी कर रहा है 
  • मोनिका हाथ धो रही है 
  • रिया चाय बना रही है 
  • श्याम दूध पी रहा है 

द्विकर्मक क्रिया:- वह क्रिया जिसमे दो कर्म एक साथ होते है वहाँ द्विकर्मक क्रिया होती है 

  • रमेश सुरेश को पुस्तक दे रहा है 
  • गुरूजी छात्रों को विज्ञान पढ़ा रहे है 
  • सोहन अपने दोस्तों के साथ मैच देख रहा है 


निष्कर्ष 


उम्मीद है दोस्तों आपने लेख को पूरा पढ़ा होगा और आपको क्रिया के कितने भेद होते है और क्रिया किसे कहते है आदि के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी,दोस्तों आपको ज्यादातर परीक्षाओं में सकर्मक और अकर्मक क्रिया की परिभाषा या उदाहरण से जुड़े ही सवाल पूछे जाते है इसलिए आपको इन पर ज्यादा फोकस करना है इसके अलावा अगर आपको क्रिया से संबधित किसी भी प्रकार का डॉउट है तो उसे कमेंट बॉक्स में जरूर बताए। 

दोस्तों इसी तरह की महत्वपूर्ण जानकारी अब फेसबुक पर भी उपलब्ध है आपको पास में नजर आ रहे फेसबुक पेज को लाइक और फॉलो करना है और इसके साथ इंस्टग्राम आइकॉन पर क्लिक करके मेरा साथ देना ताकि ऐसी नई नई जानकारियाँ हिंदी में आप तक पहुंचाते रहुँ।

दोस्तों यह लेख क्रिया के कितने भेद होते है और क्रिया किसे कहते है जाने अपने सभी दोस्तों और परिवार के साथ इंस्टाग्राम , व्हाट्सप्प और ट्विटर पर शेयर करें ताकि उन्हें भी सारी जानकारी हिंदी में मिल सकें। 






एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने