MPIN क्या है और MPIN कैसे बनाएं

नमस्कार दोस्तों इस लेख में आप MPIN क्या है और MPIN का Full Form हिंदी में जानेंगे। दोस्तों MPIN जिसका उपयोग लगभग हर व्यक्ति करता है जब उसे किसी को ऑनलाइन माध्यम से पैसे भेजने हो या फिर बैंक संबधी कोई कार्य करना हो MPIN की जरूरत होती है। वर्तमान में डिजिटलीकरण तेजी से बढ़ रहा है और सबसे ज्यादा डिजिटलीकरण का प्रभाव पैसे के आदान प्रदान के दौरान देखने को मिलता है जहाँ पहले यूजर को पैसे लेने व भेजने के लिए घंटो इंतजार करना पड़ता था आज वे काम मिनटों में हो रहा है। 

कई बैंक ऑनलाइन हो गए है साथ ही कई Payment गेटवे App जैसे Paytm और phone pe ने लोगों के लिए पैसे का आदान प्रदान करना काफी आसान कर दिया है। ऑनलाइन माध्यम से पैसे का आदान प्रदान करने की प्रक्रिया को सुरक्षित बनाने के लिए MPIN का उपयोग किया जाता है जिससे यूजर्स को किसी भी प्रकार का नुकसान न हो। MPIN के बारे में सभी ने सुना जरूर होगा लेकिन किसी को यह पता नहीं की MPIN क्या है और इसका Full Form,फायदे नुकसान क्या है अगर आप भी उन लोगों में से है तो इस लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। 


MPIN क्या है?


mpin kya hai



MPIN ऑनलाइन माध्यम में किसी भी पेमेंट गेटवे या ऑनलाइन बैंकिंग से पैसे का आदान प्रदान करने पर एक पासवर्ड की तरह कार्य करता है। जिस प्रकार ATM से पैसे निकालने पर आपको एक Secret Code डालना होता है ठीक उसी प्रकार ऑनलाइन माध्यम से Transaction करने पर आपको MPIN डालना होता है। MPIN 4 नंबर से लेकर 6 नंबर के बीच हो सकता है जिसे आपको ठीक उसी प्रकार गुप्त रखना है जैसे एटीएम पिन को रखते है। 

MPIN  नंबर आपके लिए सवेंदशील होते है इसलिए मोबाइल से किसी प्रकार का Transaction करने पर नंबर अपने तक ही सीमित रखें। यूजर्स बैंक शाखा या बैंक App से MPIN जनरेट कर सकते है वहीं ऑनलाइन पेमेंट गेटवे एप्प जैसे Paytm और Phonepe में भी आसान तरिके से MPIN बना सकते है और इसके लिए लेख को अवश्य पढ़ें। 

MPIN कैसे जनरेट करें?


MPIN जनरेट करना काफी आसान है आप जैसे ही किसी भी बैंक में सेविंग अकाउंट खुलवाते है तो आपको मोबाइल बैंकिंग का विकल्प मिलता है और आप जैसे ही मोबाइल बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करते है आपको बैंक की तरफ से welcome kit दी जाती है जिसमें आपकी User ID और MPIN दी  गयी होती है। इसके अलावा आप USSD बैंकिंग और UPI Apps के माध्यम से भी MPIN बना सकते है। अगर आपका अकाउंट पुराना है और आपके पास MPIN नहीं है तो निम्न तरीकों से अपना MPIN बना सकते है। 

अपने पास की बैंक शाखा में जाए 


अगर आपका अकाउंट पुराना है और आप  MPIN जनरेट करना चाहते है तो नजदीकी बैंक शाखा में जाकर आप MPIN के लिए Apply कर सकते है। इसके लिए आपको शाखा में जाकर mobile banking activation form लेकर उसे भरना है इसमें आपकी बैंक डिटेल जैसे डेबिट या क्रेडिट कार्ड की आवश्यकता हो सकती है इसलिए साथ अवश्य ले जाए। 

आप जैसे फॉर्म सबमिट करेंगे आपको उसी समय या कुछ देर बाद MPIN मिल जाएगी लेकिन MPIN को उपयोग करने के लिए Mobile Banking की Activation होना आवश्यक है और इसके लिए कम से 24 घंटे और ज्यादा से ज्यादा 48 घंटे लग सकते है। 

ATM से MPIN कैसे जनरेट करें ?


एटीएम भी बैंक का ही एक हिस्सा होता है जिससे यूजर्स आसानी से पैसे निकाल सकते है और पैसे जमा कर सकते है और इसी प्रकार MPIN भी जनरेट कर सकते है। इसके लिए आपको अपनी बैंक के एटीएम में जाना है और निम्न प्रक्रिया को पूरा करना है। 

  • सबसे पहले अपने डेबिट कार्ड को एटीएम में डालें 
  • अब आपके सामने मोबाइल बैंकिंग का ऑप्शन आएगा उस पर क्लिक करना है 
  • अगर आपको एटीएम में मोबाइल बैंकिंग का विकल्प न मिले तो आपको Other Services पर जाना है और Mobile Banking Registration विकल्प को चुनना है। 
  • अब आप जो भी MPIN जनरेट करेंगे वो आपके मोबाइल फोन पर आ जाएगा। 

Online MPIN कैसे जनरेट करें ?


वर्तमान में कई बैंक जैसे ICICI Bank,bank of baroda और hdfc bank पर आप ऑनलाइन MPIN जनरेट कर सकते है लेकिन कई ऐसी बैंक जहाँ पर आपको ऑनलाइन MPIN जनरेट करने की सुविधा नहीं मिलती है। ऑनलाइन MPIN जनरेट करने के लिए निम्न प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक पढ़ें। 

  • सबसे पहले आपको अपने बैंक की इंटरनेट बैंकिंग पर जाना है 
  • इसके बाद आपको लॉगिन के बटन पर क्लिक करना है
  • अब आपको साइड बार में कई सारे विकल्प नजर आएँगे उसमें से एक  Mobile Banking Registration भी होगा और आपको उस पर क्लिक करना है और आसानी से MPIN जनरेट करना है। 

MPIN रिसेट कैसे करें?


अगर आप अपना MPIN भूल जाते है तो आप किसी भी प्रकार का Transaction नहीं कर पाएंगे लेकिन आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है आप निम्न तरिके से अपना MPIN रिसेट कर सकते है। 

  • आप बैंक के एटीएम, नेटबैंकिंग और App पर जाए 
  • अब आपको MPIN डालने के नीचे ही रिसेट MPIN का विकल्प नजर आ जाएगा। 
  • अब आपको अपनी डेबिट कार्ड डिटेल सबमिट करनी है और आपका MPIN रिसेट हो जाएगा। 

Phone Pe पर UPI पिन कैसे बनाए 


फोन पे पर यूपीआई पिन बनाने के लिए निम्न प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक पढ़ें।  

  • सबसे पहले अपने डिवाइस में Phone Pe डाउनलोड करके SignUP प्रोसेस पूरा करें 
  • अब आपको Add a Bank Account का विकल्प नजर आएगा जिस पर क्लिक करें 
  • अब आपके मोबाइल फोन को वेरीफाई किया जाएगा
  • अब आपको अपने डेबिट कार्ड की डिटेल डालनी है जिसमें आपको कार्ड के पीछे से 6 नम्बर, एक्सपायर डेट और CVV नम्बर डालने है जिन्हे वेरीफाई किया जाएगा 
  • अब आपको 4 या 6 अंक का MPIN जनरेट करने से पहले मोबाइल OTP को सबमिट करना है। 
  • अब आपको दो बार MPIN डालना है जिन्हें अब किसी भी Transaction के दौरान डालना आवश्यक होगा।   


MPIN की आवश्यकता क्यों है ?


RBI अपने यूजर्स की सुरक्षा के लिए किसी भी प्रकार का Transaction करने पर two-way authentication जरूरी कर दिया है। इसका मतलब है की किसी भी प्रकार के Transaction पर यूजर की दो पर्सनल डिटेल होना आवश्यक है इससे खाते की सुरक्षा होती है और लोगों का ऑनलाइन Transaction पर भरोसा बढ़ता है। 

इसके अलावा ऑफलाइन तौर पर जब आप ATM से पैसे निकालते है तो भी आपको डेबिट कार्ड और एटीएम पिन दो चीजों की जरूरत होती है इसी प्रकार ऑनलाइन पेमेंट गेटवे App जैसे Paytm में भी आपको रेजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और UPI पिन की आवश्यकता होती है। इन सभी उदाहरणों की भांति ही Mobile बैंकिंग के लिए two-way authentication निम्न प्रकार से आवश्यक है। 

  • मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करने के लिए सबसे पहला Authentication बैंक से Registered Mobile Number होता है जिसके कारण आप रजिस्टर मोबाइल से ही मोबाइल बैंकिंग का उपयोग कर सकते है। 
  • आपके मोबाइल का उपयोग करके कोई अन्य व्यक्ति पैसे न निकाल सकें इसके लिए RBI द्धारा MPIN को दूसरा Authentication के रूप में अनिवार्य किया है जो आपके Transaction और अकाउंट को सुरक्षित रखता है। 

जैसे अगर आपका मोबाइल फोन कई खो जाता है और किसी दूसरे व्यक्ति के हाथ लग जाता है तो वे आसानी से आपके खाते से पैसे निकाल सकता है लेकिन MPIN होने पर आपके अलावा कोई अन्य व्यक्ति आपके खाते से एक रुपया भी नहीं निकाल सकता है। 

MPIN का क्या उपयोग है ?


MPIN के नंबर है लेकिन इसके कई फायदे है जिनका पता कम यूजर्स को ही होता है मोबाइल बैंकिंग सुविधाओं के साथ साथ किसी भी प्रकार के Transaction के अलावा भी निम्न प्रकार से MPIN का उपयोग होता है। 

  • कई बैंक जैसे SBI , HDFC आदि के App और वेबसाइट पर मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करने के लिए MPIN आवश्यक है। 
  • मोबाइल से sms के माध्यम से भी यूजर्स पैसों का आदान प्रदान कर सकते है लेकिन इसके लिए भी MPIN जरूरी है, हालाँकि कम लोग ही इस तरिके का उपयोग करते है। 
  • भारत में ज्यादतर कंपनिया UPI के माध्यम से पैसे लेती है लेकिन कई ऐसी कंपनिया है जहाँ IMPS / NEFT / RTGS आदि का उपयोग करती है और इसके लिए आपसे MPIN पूछा जाता है। 
  • IVR (Interactive Voice Response) के माध्यम से आप अपना बैंक बैलेंस और मिनी स्टेटमेंट आदि प्राप्त कर सकते है लेकिन इसके लिए भी आपको MPIN की जरूरत होगी। 

मोबाइल बैंकिंग को सुरक्षित कैसे रखें ?


  • वर्तमान में मोबाइल बैंकिंग या किसी भी प्रकार की पैसों से संबधित चीजों को सुरक्षित रखना काफी कठिन है और हर दिन पैसों से जुडी कई धोखाधड़ी के बारे में सुनने को मिलता है इसलिए आपको अपनी मोबाइल बैकिंग को सुरक्षित रखने के लिए निम्न सुझाव का पालन करना चाहिए। 
  • सबसे पहले अपने मोबाइल बैंकिंग से संबधित किसी भी प्रकार की जानकारी किसी को न बतायें और MPIN को गुप्त रखें अन्यथा वे व्यक्ति आपके खाते से पैसे निकाल सकता है। 
  • वर्तमान में कई लोग फेक कॉल और मैसेज से लोगों को अपनी बातों में उलझाकर पैसे निकाल लेते है इसी कारण हर दिन कोई न कोई खबर पैसों की धांधली से जुडी देखने को मिलती है। आज कई ऐसे माध्यम है जहाँ से लोग फेक नंबर लेकर लोगों को पागल बनाकर पैसे निकाल लेते है। इसलिए आप इस प्रकार के किसी भी कॉल आने पर बैंक से संबधित कोई जानकारी न बताए यह काफी घातक हो सकता है। 
  • अपने मोबाइल मैसेज सेक्शन को हमेशा चेक करते रहे ताकि किसी भी प्रकार की गड़बड़ होने पर आप तुरंत बैंक को बता दें। 
  • अगर आपका कई पर मोबाइल खो जाए तो तुरंत Mobile Banking Helpline पर कॉल करें साथ ही  SIM Card Pin Code Security भी चालू करवाए ताकि मोबाइल चालू होने पर पहले पिन की आवश्यकता हो। 
  • हमेशा एक वैलिड सिम ले उसका रजिस्ट्रेशन अच्छी तरह से करें ताकि बंद होने का खतरा न रहे अन्यथा Mobile Banking Account में पैसे की हानि हो सकती है। 

निष्कर्ष


उम्मीद है दोस्तों आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपको MPIN क्या है और इसका Full Form,फायदे नुकसान क्या है के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी,इसके अलावा भी अगर कोई जानकारी लेख में अधूरी छूट गयी है या फिर आपके मन में कोई सवाल या Dout है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य बताए। 

दोस्तों इसी तरह की महत्वपूर्ण जानकारी अब फेसबुक पर भी उपलब्ध है आपको पास में नजर आ रहे फेसबुक पेज को लाइक और फॉलो करना है और इसके साथ इंस्टग्राम आइकॉन पर क्लिक करके मेरा साथ देना ताकि ऐसी नई नई जानकारियाँ हिंदी में आप तक पहुंचाते रहुँ। 

दोस्तों यह लेख कीर्ति नाम की राशि,मतलब और स्वभाव के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में  अपने सभी दोस्तों और परिवार के साथ इंस्टाग्राम , व्हाट्सप्प और ट्विटर पर शेयर करें ताकि उन्हें भी सारी जानकारी हिंदी में मिल सकें।


FAQ


MPIN की Full Form क्या है ?

MPIN की Full Form “Mobile banking Personal Identification number” है ।

MPIN कितने नंबर का होता है ?

MPIN 4 और 6 नंबर का होता है। 





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ